ads

2014 से अब तक इन वजहों से टीम इंडिया को बड़े टूर्नामेंट्स के फाइनल और सेमीफाइनल मुकाबलों में मिली हार

टीम इंडिया इंग्लैंड के साउथैम्पटन में खेले गए वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले में हार गया। न्यूजीलैंड की टीम ने यह खिताबी मुकाबला जीता। विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल गंवाते ही विराट कोहली का पहला आईसीसी टूर्नामेंट जीतने का सपना भी टूट गया। इस टूर्नामेंट में टीम इंडिया की हार के कई कारण रहे। टीम इंडिया के ओपनर्स अपनी टीम को अच्छी शुुरुआत नहीं दे पाए। वहीं कप्तान कोहली अक्सर बड़े मैच में फ्लॉप ही रहते हैं और यही हाल उनका इस सीरीज में भी रहा। पहले पारी में उन्होंने 44 रन बनाए और दूसरी पारी में सिर्फ 13 रनों का ही योगदान दे पाए। वहीं 162 रन पर 6 विकेट गिरने के बाद भी भारतीय गेंदबाज जल्दी से न्यूजीलैंड की टीम को आउट नहीं कर पाए। हालांकि यह पहली बार नहीं है जब टीम इंडिया ने कोई बड़ा टूर्नामेंंट गंवाया हो। इससे पहले भी टीम इंडिया कई बड़े टूर्नामेंट्स के फाइनल या सेमिफाइनल में हार का सामना कर चुकी है। जानते हैं उन टूर्नामेंट्स और उसमें टीम इंडिया की हार के कारण।

आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप 2014
वर्ष 2014 में खेला गया आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया फाइनल तक पहुंच गया था। हालांकि फाइनल में टीम इंडिया को श्रीलंका के सामने हार का सामना करना पड़ा था। इस वर्ल्ड कप में टीम इंडिया की हार के सबसे बड़े कारणों में से एक युवराज सिंह की खराब फॉर्म रही। युवराज सिंह ने इंडिया को 2011 में वनडे वर्ल्ड कप चैंपियन बनाया था, वहीं टी-20 वर्ल्ड कप फाइनल में युवराज ने 21 गेंदों का सामना करने के बाद कुल 11 रन बनाए। वहीं खराब फॉर्म में होने के बावजूद धोनी ने उन्हें ऊपरी क्रम में बल्लेबाजी के लिए भेजा। इसके अलावा धीमी बल्लेबाजी के कारण टीम इंडिया 130 रन के छोटे स्कोर तक सीमित रह गई। विराट कोहली के अलावा टीम इंडिया का कोई अन्य बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल पाया था। इस मै में विराट कोहली ने 77 रन, रोहित शर्मा ने 29 और युवराज सिंह ने 11 रन की पारियां खेलीं। अजिंक्य रहाणे 3 रन बनाकर आउट हुए तो कप्तान धोनी भी 7 रन ही बना सके। वहीं श्रीलंका ने 131 रन का टारगेट 17.5 ओवरों में ही पूरा कर लिया।

यह भी पढ़ें— WTC Final: कॅरियर के अंतिम टेस्ट मैच में वॉटलिंग ने कैच लेने के मामले में तोड़ा धोनी का रिकॉर्ड

team_india_2.png

2015 वर्ल्ड कप (50 overs) सेमीफाइनल में हारी इंडिया
2015 के वर्ल्ड कप में टीम इंडिया को सेमीफाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा था। टीम इंडिया इस मुकाबले में 95 रनों से हारी। इस मैच में टीम इंडिया की हार का सबसे बड़ा कारण खराब गेंदबाजी रही। ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी की। टीम इंडिया के गेंदबाजों ने जमकर रन लुटाए। मोहम्मद शमी लय में नजर नहीं आए। वहीं मोहित शर्मा और उमेश यादव ने भी खराब गेंदबाजी के कारण जमकर रन लुटाए। सिर्फ आर. अश्विन और जडेजा ने रनों पर अंकुश लगाया। वहीं इस मुकाबले में टीम इंडिया की बल्लेबाजी भी कुछ खास नहीं रही। इस मैच में विराट कोहली भी नहीं चले। धोनी के अलावा सभी टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों ने निराश किया। वहीं धोनी ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के खिसाफ पार्टटाइम बॉलरों का इस्तेमाल किया।

2016 वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में मिली हार
मुंबई के वानखेड़े में खेले गए 2016 के विश्वकप टी20 के दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में भारत को वेस्टइंडीज के हाथों 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। इस हार के साथ ही भारत वर्ल्ड टी20 से बाहर हो गया था। इस मैच में भारतीय टीम ने बल्लेबाजी तो अच्छी की थी लेकिन गेंदबाजों की तरफ से निराशा हाथ लगी। टीम इंडिया ने इस मैच में टॉस हारा। इस मैच में टीम इंडिया की तरफ से एक स्पेशिलिस्ट गेंदबाज की कमी खली। मैच के दौरान कप्तान धोनी को विराट कोहली जैसे पार्ट टाइम गेंदबाज से दो ओवर करवाने पड़े। इस मुकाबले में भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 192 रनों का स्कोर बनाया। वहीं जब गेंदबाजी की बारी आई तो जसप्रीत बुमराह, रवीन्द्र जडेजा और हार्दिक पांड्या ने 10 से भी ज्यादा की औसत से रन लुटाए। बुमराह ने 4 ओवर में 42, जडेजा ने 4 ओवर में 48 और पांड्या ने 4 ओवर में 43 रन खर्च किए जबकि तीनों ने मिलकर मात्र एक विकेट निकाला।

यह भी पढ़ें— यूनिस खान ने छोड़ा पाकिस्तान क्रिकेट टीम का साथ, बल्लेबाजी कोच पद से दिया इस्तीफा

team_india_3.png

2017 चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल में मिली पाकिस्तान से हार
चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल में पाकिस्तान ने भारत को 180 रनों से मात देकर पहली बार खिताब अपने नाम किया था। पाकिस्तान ने 25 साल बाद कोई आईसीसी वनडे टूर्नामेंट जीती थी। इस फाइनल मुकाबले में टीम इंडिया की हार का सबसे कारण खराब गेंदबाजी और खराब बल्लेबजी रही। टीम इंडिया के गेंदबाजों ने फाइनल में बेहद खराब गेंदबाजी की। अश्विन ने इस मुकाबले में 70 रन, जडेजा ने 67 और बुमराह ने 68 रन लुटाए। तीनों गेंदबाजों ने 27 ओवर गेंदबाजी की 205 रन लुटाए। वहीं भारतीय टीम की बल्लेबाजी भी काफी खराब रही थी। 339 के लक्ष्य के आगे टीम इंडिया की बल्लेबाजी शुरू में ही बिखर गई। टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने गैर जिम्मेदाराना शॉट खेलकर अपने विकेट गंवाए। वहीं मैच में विराट कोहली की कप्तानी भी वैसी आक्रामक नहीं दिखी, जिसके लिए वे जाने जाते हैं। विराट ने मैच में डिफेंसिव कप्तानी की।

यह भी पढ़ें— टेस्ट क्रिकेट में सिक्स लगाने के मामले में टिम साऊदी ने सचिन, कपिल देव जैसे दिग्गजों को भी छोड़ा पीछे

2019 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में भी मिली हार
2019 के वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में भारत को न्यूजीलैंड के हाथों 18 रन से हार का सामना करना पड़ा था। इस मुकाबले में भारत के सामने 240 रन का लक्ष्य था, लेकिन बल्लेबाजी में टीम इंडिया के शीर्ष क्रम के बुरी तरह लड़खड़ाने से इंडिया हार गई। रोहित जो इस टूर्नामेंट में पांच शतकों के चलते सबसे ज्यादा रन बना चुके थे, वह सेमीफाइनल में सिर्फ एक ही रन बना पाए। इसके बाद बोल्ट ने कोहली को LBW आउट किया। राहुल भी सिर्फ एक रन बनाकर पवेलियन लौट गए। वहीं इस मुकाबले में जब भारतीय टीम विकेट खो रही थी तब ऐसे में जरूरत थी डिफेंस करने की क्योंकि स्कोर बहुत ज्यादा नहीं था। ऐसे में धोनी को पहले बल्लेबाजी के लिए न भेजना भी हार का एक कारण बना। धोनी ने नंबर 7 पर उतरते हुए एक बेहतरीन पारी खेली। इसके बावजूद टीम इंडिया मुकाबला नहीं जीत सकी।

कोहली की कप्तानी में आईसीसी का कोई खिताब नहीं
टीम इंडिया के पास वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप 2021 के फाइनल में जीतने का मौका था लेकिन ऐसा नहीं हो सका। विराट के नेतृत्व में टीम इंडिया टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में तो पहुंची लेकिन न्यूजीलैंड ने टीम इंडिया को आठ विकेट से हराकर डब्ल्यूटीसी फाइनल का खिताब अपने कर लिया। यह पहली बार नहीं है जब कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया फाइनल में पहुंचकर हार गई हो। कोहली के नेतृत्व में टीम इंडिया एक बार भी आईसीसी की कोई बड़ी ट्रॉफी नहीं जीत सकी। 2017 के चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भी टीम को पाकिस्तान से हार का सामना करना पड़ा। उसके बाद 2019 के वनडे विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारे।



Source 2014 से अब तक इन वजहों से टीम इंडिया को बड़े टूर्नामेंट्स के फाइनल और सेमीफाइनल मुकाबलों में मिली हार
https://ift.tt/3A47ZT4

Post a Comment

0 Comments